AAP और BJP को बदनाम करने वाली धंसे हुए पुल की नकली खबर का सच

सोशल मीडिया पर लगातार झूठी खबरे फैलाई जा रही है जिनका शिकार हर राजनितिक पार्टी या फिर कोई और भी होता है इस बार भी कुछ ऐसा ही है|
AAP और BJP को बदनाम करने वाली धंसे हुए पुल की नकली खबर का सच


सोशल मीडिया पर इन दिनों एक खबर वायरल हो रही है जिसमे एक टूटे हुए पुल की फोटो के साथ एक सन्देश शेयर किया जा रहा है ये सन्देश अलग अलग तरीके से दो पार्टियों को निशाना बना रहा है चलिए जानते हैं क्या है ये सन्देश और क्या है इसकी सच्चाई?


आम आदमी पार्टी को निशाना बनाया गया 

AAP और BJP को बदनाम करने वाली धंसे हुए पुल की नकली खबर का सच

टूटे हुए पुल की फोटो के साथ एक सन्देश है जो आम आदमी पार्टी को निशाना बना रहा है | सन्देश में लिखा है "ये पुल 450 करोड़ का बनना था आम आदमी पार्टी ने 250 करोड़ का बनाया ,पुल धंस गया और 250 भी करोड़ बेकार हो गए"|

ये सिलसिला यही तक नहीं रुका हैं |

बीजेपी पर भी निशाना 

AAP और BJP को बदनाम करने वाली धंसे हुए पुल की नकली खबर का सच

बीजेपी पर निशाना साधते हुए ऐसी फोटो के साथ एक और सन्देश शेयर किया जा रहा है सन्देश में लिखा है "गुजरात में मोदी का विकास देखो पुल का हाल खबर स्रोत The Hindu .com "|

इस प्रकार के तमाम सन्देश जो 2016 से लेकर अब तक फैलाये जा रहे थे लेकिन इस खबर में एक खबर स्रोत The Hindu .com का भी जिक्र किया गया था |

आखिर ये नकली खबर कैसे फैली, सच्चाई क्या हैं ?

जब हमने बीजेपी के विरुद्ध पोस्ट की गयी इस खबर में The Hindu .com वेबसाइट का लिंक देखा तो इसकी जाँच करने के लिए हम वेबसाइट पर गए और हमने इस आर्टिकल को खोज लिया |

AAP और BJP को बदनाम करने वाली धंसे हुए पुल की नकली खबर का सच

[TheHindu.com] ने '‘Crazy Vikas’ drives BJP bonkers in Gujarat ' के नाम से एक आर्टिकल प्रकाशित किया था | जिसके बाद नकली खबर फैलती गयी |

इसका मतलब इस नकली खबर का की जड़ TheHindu.com वेबसाइट हैं इस वेबसाइट पर इस धंसे हुए पुले की फोटो को गुजरात का बताया गया था और नरेंद्र मोदी के द्वारा गुजरात के विकास पर मजाक बनाया गया था |

अब हमारे पास दो खबरे थी एक में दावा किया गया था की ये दिल्ली में केजरीवाल का बनवाया हुआ पुल है और दूसरे में इसको गुजरात का बताया जा रहा था लेकिन ये फोटो असल में कहा की है इसकी जाँच करने के लिए हमने आगे पड़ताल की तो पता चला की ये धंसा हुआ पुल न तो गुजरात का है और न ही दिल्ली का है |

फोटो में दिखाई दे रहा पुल असलियत में लखनऊ का लोहिया पुल है|

असलियत 

ये घटना जुलाई 2016 की है और ये पुल लखनऊ का प्रसिद्ध लोहिया पुल है, 5  जुलाई 2016 को ये खबर अमर उजाला ने प्रकाशित की थी घटना के वक्त डीएम राजशेखर और एसएसपी मंजिल सैनी भी घटना स्थल पर थी |
असली खबर अमर उजाला पर अब भी मौजूद हैं |


AAP और BJP को बदनाम करने वाली धंसे हुए पुल की नकली खबर का सच

ये पुल समाजवादी पार्टी के द्वारा 2007 में शुरू किया गया था और उस वक्त शिवपाल सिंह चौहान इसके जिम्मेदार थे| कमजोर निर्माण की वजह से पुल का एक हिस्सा 5 जुलाई 2016 में धंस गया था | इसका बीजेपी और आम आदमी पार्टी से कोई मतलब नहीं है |